महफ़िल…

महफ़िल में थे कई लोग मग़र दिल में नही थे
जो दिल में थे वही हमारी महफ़िल में नही थे

#मन घुमक्कड़

6 Replies to “महफ़िल…”

    1. जिसे भी देखिये वो अपने आप में गुम है
      ज़ुबाँ मिली है मगर हमज़ुबा नहीं मिलता….
      बहुत बहुत धन्यवाद मेम 😊🤗🌻🎆🙏🙏

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s