माँ

कितना भी पढ़ लिख लो तुम यारो,
ये बस काबिल होने का किस्सा है।
जो सीख मिली माँ से हमको,
वह ही जीवन का हिस्सा है।।

5 Replies to “माँ”

  1. बिल्कुल सही। पोथी में शब्द कहाँ जो बचपन में मिला जब क भी नही जानते थे।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s