दोस्ती

दोस्ती ऐसा बंधन है जिससे हम सब जुड़े हुए हैं, बगैर दोस्त के ये जीवन बिल्कुल ऐसा है जैसे बिना पंछी के पेड़।

जीवन में हम सभी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं, पर एक यही रिश्ता है जो हमें उस दुनिया मे वापस ले जाता है जहाँ से हम वापस नही आना चाहेंगे और वो दुनिया है उन दोस्तो के साथ कि, हम सबको ईश्वर ने यह जीवन जीने का एक मौका दिया था।

आज हम सभी अपने अपने क्षेत्रों में आगे निकल आये हैं पर अभी भी वो लम्हों को याद कर सब रूक जाता है, दिल करता है कि एक दफ़ा फिर उसी दुनिया में वापस घूम आये, उन दोस्तो के चेहरों में फिर वही मुस्कान देख पाए। अब ये सब मुमकिन तो नही पर हाँ हम उन लम्हों को सहेज तो सकते हैं जिन्हें हम फिर जीना चाहते हैं।

दोस्ती के अनुभव हमें पूरी उम्र काम आते हैं कि किस तरह बिना किसी स्वार्थ के हम एक दूसरे से जुड़े होते थे, मेरे इस ब्लॉग में कुछ इसी तरह के अनुभव का जिक्र मिलेगा जो आपको थोड़ा गुदगुदाएंगे और अपने किसी करीबी मित्र की याद दिलाकर थोड़ा उदास भी करेंगे,

थोड़ा इंतजार कीजिये…………